जिस तरह से Raed और Labiba बिना देखे हुरूफ़ अल हिजा सुना रहे हैं  इसी तरह आप लोग भी ज़ोर ज़ोर से पढ़िये।

Comments
  • Faizan
    Reply

    Jazakallah

Leave a Comment

Open chat
Need Help?
Hello !
This is Bararah Institute
Aap Arabic sikhne ke mutalliq kuchh bhi puchh sakte hain.
Powered by